शेयर मार्केट क्या है | Share Market Kya Hai | शेयर मार्केट कैसे सीखे

शेयर मार्केट क्या है हिंदी में, शेयर बाजार की पूरी जानकारी विस्तार से, Share Market kya Hai, What is Share Market in Hindi, Share Market Full Information in Hindi, शेयर मार्किट क्या है, Share Market in Hindi, शेयर मार्केट का गणित, शेयर मार्केट कैसे सीखे, Share Market Kya Hai Hindi, Share Market Kya Hai in Hindi 

Share Market Kya Hai in Hindi :– यदि आपके पास अधिक धन है या फिर आप अपने भविष्य को वित्तीय रूप से मजबूती प्रदान करने के लिए Share Market में निवेश शुरू करने के बारे में सोच रहे हो जिसके तहत आप शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट के बारे में सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में प्राप्त करना चाहते हो तो आप बिलकुल सही ब्लॉग पर आए हो क्योंकि आज के इस लेख में हम आप सभी को शेयर बाजार से संबंधित निम्नलिखित सवालों के जवाब देने वाले है जैसे की 

  • शेयर मार्केट क्या है?
  • शेयर मार्केट कैसे सीखें?
  • शेयर मार्केट के फायदे क्या है?
  • शेयर मार्केट के नुकसान क्या है?
  • शेयर मार्केट कैसे काम करता है?
  • शेयर मार्केट से शेयर कब खरीदें?

अगर आप भी ऊपर लिखित समस्त सवालों के जवाब ढूंढते हुए यहां आए हो तो आपको ज्यादा सोचने की आवश्यकता नही है क्योंकि इस सम्पूर्ण लेख में आपको Share Market Full Information in Hindi में दी जाएगी ताकि आपके मन में शेयर बाजार से संबंधित कोई भी संदेश बाकी न रह जाए। हम सरल से सरल शब्दों में आपको Share Market का Knowledge देने का प्रयास करेंगे। आइए फिर विस्तार से शेयर बाजार के बारे में जानकारी हासिल करते हैं।

WhatsApp Group 👉यहां क्लिक करें 💰
Table of Contents hide

शेयर मार्केट क्या है | What is Share Market in Hindi?

Share Market Kya Hai

What is Share Market in Hindi : शेयर मार्केट को स्टॉक मार्केट या शेयर बाजार के नाम से भी जाना जाता है। शेयर मार्केट एक ऐसा स्थान होता है जहां पर BSE और NSE भारतीय स्टॉक एक्सचेंज में अनुसूचित विभिन्न कंपनियों के शेयर खरीदे और बेचे जाते है। शेयर मार्केट में निवेश करके एक सामान्य व्यक्ति निफ्टी और फिफ्टी की कंपनियों में हिस्सेदार बन सकता है यानी की शेयरहोल्डर बन सकता है।

सरल शब्दों में समझा जाए तो जिस प्रकार से एक भौतिक बाजार में विभिन्न वस्तुओं को खरीदा और बेचा जाता है ठीक उसी प्रकार शेयर मार्केट में भारतीय स्टॉक एक्सचेंज में अनुसूचित कंपनियों द्वारा जारी किए गए शेयरों को खरीदा और बेचा जाता है। जो भी लोग इन कंपनियों के Share को खरीदते है उनको निवेशक (Investor) कहा जाता है। साथ ही इनको शेयरधारक (Shareholder) भी कहते है क्योंकि यह कंपनी के शेयर को खरीदकर अपने पास रखते है।

जब कंपनी अपने Share को बाजार में सस्ते दामों पर जारी कर लेती है तो निवेशक उनको खरीद लेते है तथा जैसे ही बाजार में उन खरीदे गए शेयर की कीमत बढ़ जाती है तो निवेशक उनको बेच देते है और पैसे कमा लेते है जिसे आप लाभ कहते हैं। इसके विपरित यदि खरीदे हुए शेयर की कीमत कम हो जाती है तो निवेशक को हानि भी हो सकती है।

उदाहरण के लिए यदि किसी A Limited कंपनी ने 2500 का एक शेयर बाजार में जारी किया जिसे आपने खरीद लिया। बाद में जब कुछ मार्केट कारकों की वजह से इस एक शेयर की कीमत बढ़कर 4000 हो जाती है और कीमत बढ़ते ही आप इसे वापिस से कंपनी को बेच देते हो तो आपको बदले में 4000 रुपए प्राप्त होगा। जिसमे से 2500 आपके द्वारा लगाया गया पैसा होगा और 1500 आपका लाभ।

इसका उल्टा यदि आपने 2500 रुपए का शेयर खरीदा हुआ है और A Limited कंपनी घाटे में चली गई और 2500 रुपए से शेयर की कीमत घटकर 1000 रह गई तथा कंपनी का दिलावलिया निकल गया जिसके चलते आपको यह शेयर बेचना पड़ा तो आपको शेयर बेचने के बाद 1000 रूपए प्राप्त होगा। आपको 1000 इसलिए मिलेगा क्योंकि शेयर की कीमत कम हो जाने से 1500 रुपए का आपको नुकसान हो चुका होगा।

इसको आप समझ गए होंगे तो आप यह मत सोचिएगा की आपने Share Market में पैसा निवेश करना सीख लिया है। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है क्योंकि शेयर मार्केट से संबंधित कई सारी चीजे है जिनके बारे में आपको अच्छे से पता होना चाहिए जैसे की Share, Demat Account, SEBI, Sunsex, Nifty, Fifty, Dividend, Company, IPO आदि। 

जब तक आपको Share Market का सम्पूर्ण ज्ञान न हो तब तक आप निवेश शुरू न करें। लेकिन यहां पर एक सवाल आपके मन में यह भी आया होगा की कोई भी कम्पनी शेयर जारी क्यों करती है? यदि आपके मन में यह सवाल आया होगा तो इसका अर्थ है की आप शेयर मार्किट के बारे में धीरे धरे सिख रहे हो। आइए जानते है की कंपनियां शेयर क्यों जारी करती है?

कंपनी शेयर जारी क्यों करती है?

आपको यह तो मालूम हो गया की कंपनिया शेयर जारी करती है लेकिन इतना सब जानने के बाद आपके मन में यह सवाल तो जरूर आ रहा होगा की आखिर कंपनी शेयर जारी क्यों करती है? आइए अब इस सवाल का जवाब ढूंढने की कोशिश करते है। कंपनी शेयर जारी क्यों करती है इस सावल का जवाब आपको हमने एक उदाहरण के माध्यम से समझाने का प्रयास किया है।

मान लीजिए आपने एक XYZ Limited नाम से किसी कंपनी की शुरुआत की और शुरुआती दौर में आपकी कंपनी बहुत ही अच्छे से चल रही है। लेकिन एक वक्त के बाद आपको अपनी कंपनी के व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए 20 लाख रूपए की जरूरत पड़ जाती है। आपके पास 20 लाख रुपए मौजूद नही है, न ही घर परिवार या किसी दोस्त के पास इतना पैसा है। अब इस स्थिति में आपको 20 लाख रुपए प्राप्त करने के लिए आपके पास दो मुख्य रास्ते हो सकते है। 

  • पहला तरीका की आप किसी बैंक से 20 लाख रुपए का लोन ले सकते हो लेकिन यहां पर सबसे बड़ी दिक्कत यह है की आपको बैंक को काफी ज्यादा ब्याज देना होगा। ऐसे में आपके पास दूसरा तरीका भी है जिससे आपको 20 लाख रुपए आसानी से मिल सकते है।
  • दूसरा तरीका है की आप अपनी कंपनी को Share Market में सूचीबद्ध करवाए तथा अपनी कंपनी के शेयर जारी कर दें जिससे की लोग आपकी कंपनी के शेयर को खरीदेंगे और आपको 20 लाख मिल जायेंगे।

अतः सारांश यह निकलता है की कंपनी को जब भी अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए धन की जरूरत होती है तब जरूरत के अनुसार कंपनी जनता में अपने शेयर जारी करती है शेयर मार्केट के माध्यम से। इससे लोगों को शेयर खरीदने को मौका मिल जाता है और कंपनी को लोगों से धन प्राप्त हो जाता है। 

यहां हमने एक बात कही की शेयर जारी करने के लिए कंपनी का शेयर मार्केट में सूचीबद्ध होना आवश्यक है। तो चलिए अब जानते है की आखिर कैसे शेयर मार्केट में किसी भी कंपनी को सूचीबद्ध (List) करवाया जाता है ताकि वह कंपनी शेयर जारी कर सके।

किसी भी कंपनी को शेयर मार्केट में सूचीबद्ध कैसे करें?

ऊपर दिए गए उदाहरण के अनुसार आपको 20 लाख रुपए की आवश्यकता है। अतः शेयर मार्केट में कंपनी को लिस्ट करवा कर और शेयर जारी करके से आप 20 लाख रुपए आसानी से इक्कठा कर सकते हो। अतः इसके लिए आपको सबसे पहले अपनी कंपनी को BSE या NSE स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange) में लिस्ट करवाना होगा। 

BSE यानी Bombay Stock Exchange जिसके अंतर्गत 1600 से अधिक कंपनियां सूचीबद्ध है और NSE यानी की National Stock Exchange जिसके अंतर्गत 1300 से अधिक कंपनियां सूचीबद्ध है। 

अब आपको अपनी कंपनी को स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट करवाने के लिए SEBI यानी सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया के पास जाना होगा। सेबी के कार्यालय में आपको अपनी कम्पनी के सभी दस्तावेजों को जमा करवाना होगा और जब सेबी आपकी कंपनी के दस्तावेजों को वेरिफाई (Verify) करके आपको मंजूरी प्रदान कर देगी तो आपकी कंपनी स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हो जाएगी। इस तरह से विभिन्न कंपनियों को शेयर मार्केट में लिस्ट करवाया जाता है।

अब उदाहरण के अनुसार आपको 20 लाख रुपए की जरूरत है तो इसके लिए आपको अपनी कंपनी के 100000 शेयर 200 रुपए के हिसाब से जनता के बीच शेयर मार्केट के माध्यम से जारी करने होंगे और इसी को IPO भी कहा जाता है। IPO यानी की Initial Public Offer अर्थात जब भी कोई कंपनी शेयर मार्केट में लिस्ट होकर पहली बार अपने Share जारी करती है तो इसे IPO कहा जाता है। 

इस तरह से जब आप अपनी कंपनी के IPO के द्वारा पहली बार शेयर जारी करोगे तो लोग आपके शेयर को खरीदेंगे और आपको 20 लाख रुपए मिल जायेंगे। उम्मीद करते है की यहां तक आपको अब अच्छे से समझ में आ चुका होगा की Share Market Kya Hai और कंपनी Share जारी क्यों करती है? आइए अब समझते है की आखिर शेयर क्या होता है?

शेयर क्या होता है | What is Share in Hindi

किसी भी कंपनी की कुल संपत्ति छोटे छोटे हिस्सों में विभाजित होती है और प्रत्येक हिस्से को शेयर या अंश कहा जाता है।

सामान्य भाषा में समझा जाए तो Share का अर्थ हिंदी में अंश होता है। यानी की यदि आपने किसी कंपनी के शेयर खरीदे हुए है होते है तो जीतने शेयर आपने खरीदे होते है उतने प्रतिशत शेयर के हिस्सेदार आप उस कंपनी में हो जाते है। एक तरह से आप भी उस कंपनी में हिस्सेदारी प्राप्त के लेते हो। कंपनी में हिस्सेदारी का अर्थ है की आपने उस कंपनी में अपना पैसा लगाया हुआ है। यदि कंपनी को लाभ होगा तो आपको भी लाभ प्राप्त होगा और यदि कंपनी को नुकसान होगा तो आपको भी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

  • उदाहरण के लिए यदि किसी XYZ Limited कंपनी के पास कुल 100 शेयर है जिसमे से आपने 20 खरीद लिए है तो आप उस कंपनी के 20 प्रतिशत शेयर पर अपना पैसा लगाते हो। इस तरह से आप उस कंपनी में 20 प्रतिशत शेयर के साथ हिस्सेदार बन जाते है। सामान्य रुपए से कहा जाए तो आप उस कंपनी के 20% इक्विटी के मालिक बन जाओगे। इस तरह से अलग अलग Shareholders के पास अलग अलग प्रतिशत में शेयर होता है।

वर्तमान समय में आप घर बैठे कई सारे ब्रोकर ऐप की मदद से इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन शेयर खरीद सकते हो। आज के समय में Upstox, Groww, Zerodha ऐसे ऑनलाइन प्लेटफार्म है जिनकी सहायता से आप बड़ी ही आसानी के साथ घर बैठे आप शेयर खरीद और बेच सकते हो। आशा करते है की आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा की Share Market Kya Hai? आगे हम जानने वाले हैं की Share की कीमत कैसे घटती और बढ़ती है?

शेयर की कीमत कैसे घटती और बढ़ती है?

शेयर बाजार में किसी भी शेयर की कीमत उस शेयर की मांग (Demand) और पूर्ति (Supply) के आधार पर घटती और बढ़ती है। किसी भी कंपनी के शेयरों का मूल्यांकन शेयर के Demand और Supply के आधार पर किया जाता है। 

जब किसी शेयर की मांग ज्यादा होती है और पूर्ति कम होती है तो शेयर की कीमत में वृद्धि होती है तथा इसके विपरित यदि शेयर की मांग कम है और पूर्ति ज्यादा है को परिणामस्वरूप शेयर की कीमत में गिरावट आती है। 

हर कम्पनी के शेयर की कीमत प्रायः अलग होती है। शेयर मार्केट में लिस्टेड सभी कंपनी प्रायः अपना कारोबार करती है जिसके आधार पर उनको लाभ और हानि होती है। इसलिए प्रायः आपको शेयर की कीमतों में उतार चढ़ाव देखने को मिलता है। 

इस तरह से मार्केट में जिस कंपनी का व्यापार बढ़ता हैं और उसे लाभ होने लगता है तो निवेशक अधिक मात्रा में उस कंपनी के शेयर को खरीदते है जिससे धीरे धीरे उस शेयर की मांग बढ़ जाती तथा और पूर्ति कम होने लगती है तो उस शेयर की कीमत बढ़ने लगती है। 

ठीक इसी तरह से जब कंपनी को नुकसान होने लगता है तो निवेशक उसके खरीदे गए शेयर को बेचने लगते है जिससे शेयर की कीमत घटने लगती है। शेयर को बेचने का कारण होता है ताकि भविष्य में निवेशकों को और अधिक नुकसान न झेलना पड़े शेयर की कीमत होने की वजह से।

आइए इसे एक उदाहरण से स्पष्ट रूप से समझते है :– 

साल 2007 से लेकर 2016 तक रिलाइंस इंडस्ट्री के एक शेयर की कीमत लगभग 500 रुपए के आसपास थी। परंतु 2016 में जब रिलाइंस में जियो नेटवर्क को लॉन्च किया तथा एक साल के लिए फ्री इंटरनेट की सेवा लोगों को प्रदान की तो एक साल के भीतर ही रिलाइंस के शेयर की कीमत 500 से बढ़कर 2000 रुपए तक बढ़ गया और आज मार्केट में Reliance Industries के एक शेयर की कीमत 2500 रुपए से अधिक है।

रिलाइंस ने जो फ्री डाटा लोगो को प्रदान किया था उसकी वजह से लोग कंपनी की तरफ आकर्षित होने जिससे जब कंपनी ने अगले साल फ्री की जगह अपना डाटा पैक प्लान लॉन्च किया तो लोग उस डाटा प्लान पैक को बहुत ज्यादा खरीदने लगे जिससे कंपनी को मुनाफा होने लगा। अधिक मुनाफे की वजह से लोग इस कंपनी के शेयरों को खरीदते चले गए और शेयर की कीमत बढ़ने लगी।

अतः जैसे जैसे लोग किसी एक कंपनी के शेयर को खरीदते जाते है तो वैसे वैसे उस कंपनी के शेयर की कीमत भी बढ़ती जाती है। यहां तक आपको समझ में आ गया होगा About Share Market in Hindi अच्छे से और आगे अब हम जानने वाले है की शेयर कैसे खरीदे और बेचे जाते है?

शेयर कैसे खरीदे और बेचे जाते है?

शेयर मार्केट में शेयर को खरीदने और बेचने के लिए बोलियां लगाई जाती हैं अर्थात नीलामी होती है। नीलामी की इस प्रक्रिया में सबसे अधिक कीमत पर जो क्रेता शेयर को खरीदने के लिए तैयार होता है तथा जो विक्रेता सबसे कम कीमत पर शेयर को बेचने के लिए तैयार होता है उन दोनों के बीच खरीदने और बेचने की प्रक्रिया संपन्न होती हैं। दोनों के बीच सहमति के साथ क्रेता शेयर को खरीद लेता है और विक्रेता शेयर को बेच देता है। यानी कि जो सबसे ऊंची बोली लगाता है वह शेयर को खरीद लेता है।

Bid Price और Ask Price इसे ही कहा जाता है। जिस कीमत पर विक्रेता शेयर को बेचने के लिए तैयार होता है उसे Bid Price कहा जाता है तथा जिस कीमत पर क्रेता शेयर को खरीदने के लिए तैयार हो जाता है उसे Ask Price कहा जाता हैं।

किसी भी कंपनी का शेयर कैसे खरीदें जाते है?

शेयर मार्किट में किसी भी कंपनी का शेयर खरीदने के लिए आपके पास कुछ आवश्यक चीजों का होना बेहद जरूरी है जिनके बारे में हमने नीचे आपको विस्तार से जानकारी प्रदान की है।

1. Saving Account या Bank Account

शेयर मार्केट से शेयर खरीदते वक्त आपको पेमेंट भी करनी होती है जिसके लिए आपके पास किसी भी विख्यात बैंक में सेविंग अकाउंट का होना आवश्यक है ताकि आप शेयर खरीदने पर उसका पेमेंट कर सको।

2. Demat Account

किसी भी कंपनी का शेयर खरीदने पर आपको उस कंपनी में हिस्सेदारी या इक्विटी प्राप्त होती हैं। परंतु आपने शेयर खरीदा है या नहीं इस बात का सबूत भी होना बेहद आवश्यक है ताकि आगे चलकर भविष्य में किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना आपको ना करना पड़े। अतः वर्तमान समय में यदि आप शेयर खरीदते हो तो आपको एक डीमैट अकाउंट की आवश्यकता होती है जहां पर आपके द्वारा खरीदे गए शेयर डिजिटल रूप में स्टोर होते हैं। 

यह शेयर डिजिटल फॉर्म के रूप में आपके डीमैट अकाउंट में स्टोर होते हैं तथा बाद में यदि आप खरीदे के शेयर को वापस बेच देते हो तो कंपनी के पास यह शेयर वापस चले जाते हैं। पहले जब लोग शेयर खरीदते थे तो उनको सबूत के तौर पर कुछ दस्तावेज दिए जाते थे परंतु वर्तमान समय में कागजी कार्यवाही को हटाकर डिजिटल रूप से सारी प्रक्रिया संपन्न की जाती हैं और डिमैट अकाउंट को एक सबूत के तौर पर पेश किया जाता है। वर्तमान समय में कई सारे ब्रोकरेज ऐप हैं जिनकी मदद से आप ट्रेडिंग अकाउंट के साथ ही Demat Account भी फ्री में बना सकते हो।

3. Trading Account 

आपके पास एक (Trading Account का भी होना बेहद आवश्यक है जिसकी मदद से आप शेयर को खरीद सकते हैं और बेच सकते हो। ट्रेडिंग अकाउंट का होना इसलिए आवश्यक है क्योंकि भारत में स्थित स्टॉक एक्सचेंज जैसे की बीएससी (BSE) और एमएससी (NSE) प्रत्यक्ष रूप से किसी भी कंपनी के शेयर को नहीं खरीदते हैं। अतः किसी भी कंपनी के शेयर को खरीदने या बेचने के लिए कुछ मध्यस्थ कंपनियां होती हैं जिनके प्लेटफार्म का इस्तेमाल करके आप शेयर को खरीद या बेच सकते हैं।

Upstox, Groww, Angel Broking और Zerodha ऐसा ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म है जिनका इस्तेमाल करके आप किसी भी कंपनी के शेयर को खरीद सकते हैं और इसी प्लेटफार्म की मदद से उनको वापस से बेच सकते हैं। इस प्रकार से इन ऐप्स का इस्तेमाल करके जो अकाउंट आप शेयर को खरीदने और बेचने के लिए खोले जाते हैं उसको ट्रेडिंग अकाउंट या ब्रोकर अकाउंट कहा जाता है।

इस तरह से किसी की भी कंपनी के शेयर को खरीदने के लिए आपको किसी विश्वनीय ब्रोकरेज ऐप का इस्तेमाल करके अपना एक डीमैट अकाउंट खुलवाना है। उसके बाद आपको अपने डिमैट अकाउंट को बैंक अकाउंट के साथ लिंक करना होगा ताकि आप डिमैट अकाउंट (Demat Account) में कुछ धनराशि यानी कि फंड (Fund) डाल सकें जिनकी मदद से आप शेयर को खरीदोगे।

इतना सब होने के बाद जब आप किसी भी कंपनी के शेयर को ट्रेडिंग अकाउंट की मदद से खरीदते हो तो वह शेयर डिजिटल रूप में आपके डिमैट अकाउंट में स्टोर हो जाते हैं। यदि बाद में आप इन शेयर को बेचना चाहते हो तो आप ट्रेडिंग अकाउंट की मदद से ही शेयर को आसानी से बेच सकते हो और शेयर वापस उसी कंपनी के पास चला जाता है तथा पैसा आपके बैंक अकाउंट में ट्रेडिंग अकाउंट से होते हुए वापस आ जाता है।

यहां तक आप जरूर अच्छे से जान चुके होंगे कि शेयर मार्किट क्या है और शेयर क्या है? Share Market Full Information in Hindi को जारी रखते हुए अब आगे हम यह जानने वाले है की शेयर मार्केट से पैसे कमाने के तरीके कौन कौन से है?

शेयर मार्केट से पैसे कमाने के तरीके कौन कौन से है?

कुछ मुख्य तरीके जिनकी मदद से बहुत सारे निवेशक शेयर मार्केट से पैसा कमाते है। हमने उन्हीं सभी तरीकों के बारे में नीचे जानकारी प्रदान की है।

1. पहला तरीका

जब किसी निवेशक द्वारा खरीदे गए शेयर का प्राइस मार्केट में बढ़ जाता है तो वह उस शेयर को बेचकर पैसा कमाते हैं। पैसे कमाने का शेयर मार्केट से यह सबसे लोकप्रिय तरीका है। नीचे कुछ तरीके बताए गए हैं जिनका इस्तेमाल प्रायः निवेशक करते है।

  • इंट्रा डे ट्रेडिंग (Intraday Trading)
  • स्विंग ट्रेडिंग (Swing Trading)
  • शोर्ट टर्म ट्रेडिंग (Short Term Trading)
  • लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग (Long Term Trading)

2. दूसरा तरीका

कई सारी कंपनियां अपने शेयरधारकों को लाभांश यानी कि डिविडेंड (Divind) भी देती है। जब कंपनी को अधिक मुनाफा होता है तो वह शेयरधारकों को बोनस के रूप में कंपनी के लाभ में से लाभ का कुछ हिस्सा देती हैं जिसे डिविडेंड कहा जाता है।

3. तीसरा तरीका

Intraday पर Short Selling करके भी कई सारे लोग पैसे कमाते है।

4. चौथा तरीका

काफी सारे लोग ट्रेडिंग का इस्तेमाल करके भी पैसा कमाते हैं जैसे कि

  • फ्यूचर मार्केट ट्रेडिंग (Future Market Trading)
  • ऑप्शन मार्केट ट्रेडिंग (Option Market Trading)

अतः यह थे कुछ तरीके जिनका इस्तेमाल करके एक निवेशक या कोई व्यक्ति शेयर मार्केट के द्वारा पैसा कमा सकता है।

शेयर कब खरीदना चाहिए?

शेयर मार्केट से संबंधित इतनी सारी जानकारियां प्राप्त करने के बाद यदि आप शेयर खरीदने का विचार बना रहे होंगे तो आपके मन में यह सवाल तो जरूर आ रहा होगा कि शेयर आखिर खरीदना कब चाहिए? इस सवाल का जवाब देने के लिए हमने नीचे विस्तार से बताया है कि शेयर मार्केट से शेयर खरीदने से पहले आप निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना है और उन सब बातों को फॉलो करने के बाद आप शेयर खरीद सकते हो।

  • जिस भी कंपनी का शेयर आप खरीदना चाहते हो उस कंपनी के बारे में अच्छे से जानकारी प्राप्त कर लें।
  • कंपनी का व्यवसाय भूतकाल में कैसा चल रहा था, वर्तमान में कैसा चल रहा है और आने वाले भविष्य में कैसा चलेगा इसके बारे में भी अवश्य जानकारी प्राप्त करें।
  • कंपनी ने बीते 5 या 10 सालों में कितना प्रॉफिट कमाया है और साथ ही कितना नुकसान झेला है इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करें।
  • जिस कंपनी का शेयर आप खरीदना चाहते हो उस कंपनी पर कितना कर्ज है इसकी जानकारी आपको होना बेहद आवश्यक है।
  • कंपनी के संपत्ति और दायित्व को अच्छे से देखें।
  • कंपनी के Cash Flow Statement और Balance Sheet के बारे में भी जानकारी प्राप्त करें।
  • वर्तमान समय में कंपनी जो कारोबार करती हैं क्या वह भविष्य में भी लाभदायक होगा इस बारे में भी इंटरनेट की सहायता से अवश्य जानकारी प्राप्त कर लें।

अतः इतनी जानकारी प्राप्त करने के बाद आप शेयर मार्केट में निवेश करना शुरू कर सकते हो। परंतु हमारा सुझाव यह रहेगा की शुरुआत में आप कम पैसों के साथ शेयर मार्केट में निवेश करें। 

समय के साथ जैसे-जैसे आपको शेयर मार्केट के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त होने लगे तो उसके साथ आप अपने निवेश को बढ़ा सकते हो। अपने ज्ञान के अनुसार पर शेयर मार्केट में निवेश करें ना कि लालच को ध्यान में रखते हुए।

शेयर मार्केट कैसे सीखे?

शेयर मार्केट एक ऐसा स्थान है जहां पर यदि आप अपनी बुद्धिमता से निवेश करते हो तो बहुत सारा पैसा कमा सकते हो लेकिन आपकी थोड़ी सी मूर्खता या कम ज्ञान आपको बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है। एक ही पल में आपके लगाए हुए पैसे डबल हो सकते हैं और दूसरे ही पल आपका का सारा पैसा डूब सकता है। शेयर मार्केट कैसे सीखे के संबंध में आपको हमारे द्वारा बताए गए  निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना होगा और उसके बाद ही शेयर मार्केट में निवेश शुरू करें।

1. पहले सीखे फिर निवेश करें

आप को यह जरूर अच्छे से मालूम होगा कि शेयर मार्केट में हमेशा जोखिम बना रहता है और इस वजह से यदि आप पहली बार शेयर मार्केट में निवेश करने जा रहे हैं तो आपको पहले शेयर मार्केट के बारे में अच्छे से जानकारी प्राप्त कर लेना चाहिए। 

जब आपको शेयर मार्केट के बारे में अच्छे से समझ आ जाए तो आप अपना निवेश शुरू कर सकते हो। शेयर मार्केट से जुड़ी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप यूट्यूब पर वीडियो देख सकते हो, हमारे ब्लॉग को पढ़ सकते हो तथा शेयर मार्केट से संबंधित किताबें भी पढ़ सकते हो।

2. निवेश करने से पहले खुद रिसर्च करिए

अधिकतर नए निवेशक यह गलती करते हैं कि वह बिना रिसर्च के ही शेयर मार्केट में अपना पैसा लगा देते हैं और परिणाम स्वरूप उनके पैसे डूब जाते हैं। निवेश करने से पहले यह बेहद आवश्यक है कि आप जिस भी कंपनी में अपना पैसा लगाना चाहते हो उसके बारे में अच्छे से रिसर्च करें तथा उसकी तुलना अन्य उसी कैटेगरी की कंपनी के साथ करिए ताकि आपको उनके बीच का फर्क समझ में आ सके। इसके बाद जब आपको अच्छे से उस कंपनी के विषय में समझ आ जाए तभी जाकर आप उसमें पैसा लगाएं।

3. कम पैसों के साथ निवेश शुरू करें

काफी सारे लोग बिना किसी जानकारी के शेयर मार्केट में शुरुआत से ही काफी सारा पैसा लगा देते हैं और बाद में उनको आगे चलकर नुकसान झेलना पड़ता है। इसलिए हमारा सुझाव है कि शुरुआत में आप कम पैसों के साथ शेयर मार्केट में निवेश करें इसके बाद जैसे-जैसे आपको शेयर मार्केट के बारे में और अधिक जानकारी होती जाएगी उसके बाद आप निवेश की राशि को बढ़ा सकते हैं। 

यदि शुरुआत में ही आपने काफी पैसे लगा दिए और आपको नुकसान हो गया तो आपको लगेगा कि शेयर मार्केट में पैसे कमाए ही नहीं जा सकते हैं और आप दोबारा से शेयर मार्केट में कभी निवेश ही न करें। शुरुआत में आपको 100 रुपए से लेकर 1000 रुपए की राशि के साथ शेयर मार्केट में पैसा लगाना चाहिए।

4. सीखते रहिए

शेयर मार्केट में कभी भी आप खुद को यह मत समझना कि आपको सारी जानकारी प्राप्त हो चुकी हैं क्योंकि हो सकता है आपकी छोटी सी गलती आपके लिए भारी नुकसान का कारण बन जाए। समय के साथ अपने ज्ञान को भी बढ़ाते रहिए और जितना हो सके उतना शेयर बाजार के संबंध में जानकारी प्राप्त करते रहें।

शेयर मार्केट के फायदे क्या क्या है?

शेयर मार्केट में निवेश करने के कुछ फायदे हैं जिनके बारे में नीचे आपको बताया गया है।

  • शेयर मार्केट में निवेश करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपको यहां पर एफडी या सेविंग अकाउंट आदि जैसे अन्य निवेश की तुलना में अधिक मुनाफा मिलता है। जितना लाभ आपको सेविंग अकाउंट और फिक्स्ड डिपॉजिट के द्वारा होगा उससे कहीं ज्यादा लाभ शेयर मार्केट में 1 दिन या 1 महीने के अंदर ही आप कमा सकते हो।
  • आप किसी भी कंपनी के जितने मर्जी शेयर खरीद सकते हो। चाहे तो आप 1 शेयर खरीदे या 1000 आपको उस कंपनी में हिस्सेदारी जरूर मिलेगी। लाभ होने पर आपको लाभ अवश्य मिलेगा और जिस तरह से अन्य शेयरधारकों को बोनस और लाभांश मिलता है उसी प्रकार आपको भी मिलेगा।
  • म्यूचुअल फंड के कई सारे निवेश में Lock in Period देखने को मिलता है इसके चलते आप निश्चित समय से पहले पैसे नहीं निकाल सकते हो परंतु शेयर मार्केट में आप जब चाहे शेयर खरीद सकते हो और बेच सकते हो तथा पैसे प्राप्त कर सकते हो।
  • प्रत्येक शेयर बाजार सेबी के द्वारा नियंत्रित किया जाता है जिसके चलते आपको धोखाधड़ी और अन्य फ्रॉड से बचने में मदद मिलती हैं। SEBI निवेशकों के हितों की सुरक्षा करता है।

शेयर मार्केट के नुकसान क्या क्या है?

शेयर मार्केट के फायदों के बारे में हमने जान लिया है। आइए अब इसके कुछ नुकसान के बारे में जानते हैं।

  • शेयर मार्केट में हमेशा जोखिम का गुण पाया जाता है। जिस प्रकार से भौतिक बाजार में वस्तुओं की कीमत घटती बढ़ती रहती है उसी प्रकार शेयर मार्केट में शेयर के प्राइस भी घटते और बढ़ते रहते हैं।
  • यदि शेयर मार्केट में पूरी रिसर्च और जानकारी के साथ निवेश न किया जाए तो आप अपना सारा का सारा पैसा गंवा सकते हो।
  • कंपनी जब बंद होती है तो शेयरधारकों को सबसे आखिर में भुगतान किया जाता है जबकि लेनदारों तथा बॉन्डधारकों सबसे पहले भुगतान किया जाता है।

शेयर मार्केट का गणित क्या है?

शेयर मार्केट का गणित क्या है यदि इस तरह का सवाल आपके मन में आ रहा है तो इसका सीधा सा जवाब है कि शेयर मार्केट में खरीदने और बेचने की प्रक्रिया होती है। एक तरफ से शेयर खरीदे जाते हैं जबकि दूसरी तरफ शेयर बेचे जाते हैं। शेयर मार्केट के अंतर्गत कई सारे लोग अलग-अलग कंपनियों के शेयर खरीदते हैं और कई सारे लोग उन शेयरों को बेचते भी है।

परंतु यह इतना आसान नहीं है क्योंकि यदि आप शेयर मार्केट में किसी जिस भी कंपनी पर पैसा लगाते हो यानी किसी भी कंपनी के शेयर को खरीदते हो तो यह बेहद आवश्यक है कि आप उन कंपनियों के बारे में संपूर्ण जानकारी हासिल करें। उसके बाद ही उन कंपनियों में अपना पैसा लगाएं। यदि आप बिना जानकारी के या कम जानकारी के चलते किसी भी कंपनी में अपना पैसा लगा देते हो तो आगे चलकर आपको नुकसान भी उठाना पड़ सकता है।

शेयर मार्केट के अंतर्गत जो भी प्रक्रिया रोजाना संपन्न होती हैं उन पर सेबी की नजर होती है। SEBI शेयर बाजार में होने वाली प्रत्येक गतिविधि पर नजर रखता है तथा इसके ऊपर शेयर मार्केट में निवेश करने वाले निवेशकों के हितों की सुरक्षा करने की जिम्मेदारी होती है। जो भी कंपनियां SEBI के अंतर्गत आती है वह इस बात का सबूत होती है कि आप उन कंपनियों में निवेश कर सकते हैं या उन कंपनियों से आपको धोखाधड़ी जैसे मामले नहीं सुनने को मिलेंगे।

शेयर मार्केट में कितना रिस्क है?

काफी सारे लोगों का कहना है की शेयर मार्केट में पैसा नही लगाना चाहिए क्योंकि पैसा डूब जाता है।

वही दूसरी तरफ कई सारे लोग ऐसे भी है जिन्होंने शेयर मार्केट से लाखों करोड़ों रुपए कमाए है। 

अब ऐसे में एक सवाल उठता है की क्या शेयर मार्केट में रिस्क है और यदि है तो शेयर मार्केट में कितना रिस्क है?

अतः एक बात आप अच्छे से समझ लें की शेयर मार्केट में हमेशा से जोखिम का गुण पाया जाता है यानी की Share Market में Risk है और आगे भी रहेगा। लेकिन रिस्क सबसे अधिक उस व्यक्ति के लिए है जो अधूरे ज्ञान के साथ शेयर बाजार के समंदर में कूद जाता है और गहराई में जाके वह डूब भी जाता है। साथ ही बेकार की कंपनियों में निवेश कर देता है सस्ते शेयर खरीदने के चक्कर में।

शेयर मार्केट एक ऐसी जगह है जहां पर आपके द्वारा लगाए गए 5000 रुपए 5 लाख में बदल सकते है जबकि लापरवाही की वजह से 5 लाख 5000 में बदल सकते है। इसलिए बुद्धि का इस्तेमाल करना बेहद ही आवश्यक है। एक उदाहरण के जरिए आपको यह बात हम समझाते है।

मानकर चलिए :–

  • राम के पास 20000 रुपए है और उसने किसी ABC कंपनी के 1 रुपए वाले सस्ते शेयर 20000 में खरीद लिए इस सोच के साथ की आगे चलकर कंपनी के शेयर की कीमत 2 रुपए हो जायेगी तो उसके द्वारा लगाए हुए 20000 डबल होकर 40000 हो जायेंगे।
  • ठीक इसी तरह से उस 1 रुपए वाले शेयर की कीमत बढ़कर 5 रुपए हो जायेगी तो उसके द्वारा लगाया 20000 पांच गुना बढ़कर 100000 हो जायेगा और वह लखपति बन जायेगा 

ऐसे खयाली पुलाव बनाकर और लालच में आकर 90% लोग किसी भी घटिया या घाटे में चल रही कंपनी के सस्ते शेयर खरीदे लेते है। और फिर बाद में चलकर उस कंपनी का दिवालिया निकल जाता है या वह कंपनी फ्रॉड निकलती है यह नए लालची  निवेशक अपना सारा का सारा पैसा गंवा बैठते हैं।

इसलिए यह बेहद आवश्यक है की आप केवल ऐसी कंपनियों में निवेश करो जिसके बारे में आपको व्यक्तिगत रूप से सम्पूर्ण जानकारी हो, उस कंपनी की मार्केट में ख्याति हो, जिसका व्यवसाय अच्छा चल रहा हो, जिसके ऊपर अधिक कर्ज न हो तथा जो लाभ अर्जित कर रही हो। 

WhatsApp Group 👉यहां क्लिक करें 💰

आपको Large Cap और Blue Chip कंपनियों में निवेश करना चाहिए ताकि आप आने वाले 5 या 10 सालों के लिए उस कंपनी में निश्चिंत होकर निवेश कर सको। इसलिए कभी भी सस्ते शेयर के चक्कर में किसी भी कंपनी में आंख बंद करके भरोसा न करें।

Share Market in Hindi – FAQs

  • Q.1 शेयर मार्केट क्या है हिंदी में?

    Ans :– शेयर मार्केट एक ऐसा स्थान है जहां पर स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध विभिन्न कंपनियों के शेयर खरीदे और बेचे जाते है।

  • Q.2 शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट में क्या अंतर है?

    Ans :– शेयर मार्केट और स्टॉक मार्केट में कोई भी अंतर नही है बस जो अंतर है वह बस नाम का है। हिंदी में शेयर मार्केट या शेयर बाजार कहा जाता है जबकि अंग्रेजी भाषा में शेयर मार्केट को स्टॉक मार्केट कहा जाता है।

  • Q.3 शेयर कैसे खरीदे जाते हैं?

    Ans :– शेयर खरीदने के लिए आपके पास डीमैट अकाउंट होना चाहिए। बिना डीमैट अकाउंट के आप शेयर खरीद नही सकते हो न बेच सकते हो। डिमैट अकाउंट बनाने के लिए आप Groww का इस्तेमाल कर सकते हो।

  • Q.4 1 शेयर का मतलब क्या होता है?

    Ans :– शेयर का अर्थ होता है हिस्सा या अंश। अर्थात यदि आपके पास 1 शेयर है किसी भी कंपनी के तो आप उस कंपनी के 1 शेयर के अनुसार हिस्सेदारी प्राप्त कर सकते हो।

  • Q.5 शेयर मार्किट में न्यूनतम कितने पैसे से शुरू किया जा सकता है?

    Ans :– शेयर मार्केट में कोई सीमा नही है पैसे लगाने की। आप किसी भी कंपनी के शेयर की कीमत के अनुसार जीतने चाहो उतने शेयर खरीद सकते हो।

  • Q.6 क्या शेयर मार्किट जुआ होता है?

    Ans :– जी नहीं शेयर मार्केट कोई हुआ नही है बल्कि यह एक ऐसी मार्केट है जहां पर आपको अपने ज्ञान और रिसर्च के अनुसार पैसे को निवेश करना होता है।

What is Share Market in Hindi – सारांश

Share Market Kya Hai :– आज के इस लेख में आप सभी को शेयर मार्केट से संबंधित बहुत सारी चीजें विस्तार से समझाई गई है। यदि आप Share Market की दुनिया में कदम रखना चाहते हैं तो इस लेख को पढ़कर आपको सारी चीजे जानने को मिली होंगी शेयर बाजार से संबंधित जैसे की शेयर मार्किट क्या है? शेयर मार्केट कैसे सीखें? शेयर मार्केट के फायदे क्या है? शेयर मार्केट के नुकसान क्या है? 

उम्मीद करते है की आपको Share Market in Hindi की Basic जानकारियां अच्छे से समझ में आ चुकी होंगी। यदि आपके मन में फिर भी कोई सवाल रह जाए तो आप कमेंट के माध्यम से हमने बेझिझक पूछ सकते हो। इसके साथ Share Market से संबंधित Update पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल हा हिस्सा जरूर बने।

Sharing Is Caring:

MoneyMaker पर Share Market से संबंधित जानकारियां प्रदान की जाती हैं। साथ ही रोजाना शेयर बाजार में आने वाले उतार चढ़ाव के बारे में भी Update दी जाती है। अतः रोजाना Update पाने के MoneyMaker के Telegram का हिस्सा बनें।